आजकल दवा के बिना इंसान का जीना नामुमकिन सा होता जा रहा है. रोजमर्रा की ज़िन्दगी में अब सबसे ज़्यादा अहमियत इसी चीज़ की हो गई है.