कवी रवीन्द्रनाथ ठाकुर एवं काज़ी नज़रुल इस्लाम की रचनाओं को लेकर आये दिनों महानगर में कुछ न कुछ होता ही रहता है. और इस बार एनजीओ नवोदया ने वर्षा