इतिहास गवाह है, मुगल बादशाह की मुहब्बत और शिद्दत का परिणाम ही है, ‘ताजमहल’. मुगल बादशाह शाहजहां ने अपनी दूसरी पत्नी मुमताज महल की याद में ताजमहल का